भगवान ब्रह्मा

बारे में

अस्त्र
देवेया धनुष, ब्रह्मास्त्र

सवारी
हंस (हन्स का नाम है हन्सकुमार)

जीवनसाथी
सरस्वती

भगवान ब्रह्मा Lord Brahma हिंदू सनातन धर्म और पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान ब्रह्मा त्रिमूर्ति का एक हिस्सा हैं जो ब्रह्मा, विष्णु और महेश को शासन करते हैं। व्यासलिखित पुराणों में ब्रह्मा का वर्णन किया गया है कि उनके पाँच मुख थे, लेकिन पांचवा मुख भगवान शिव ने भैरव रूप में काट दिया क्योंकि ब्रह्मा जी द्वारा असत्य बोला गया था तब भैरव को ब्रह्महत्या का दोष भी लगा था यह मुख भैरव से काशी में गिरा और आज वहाँ कपालमोचन भैरव का मंदिर है। इसके बाद से उनके चार मुख ही है कि यह उनके शासन और सत्ता का प्रतीक है। भगवान ब्रह्मा के चार मुख ब्रह्मांड के चार दिशाओं को दर्शाते हैं। उनके चारों मुखों में चारों वेदों की ज्ञानवाणी व्यक्त होती है। इस प्रकार, भगवान ब्रह्मा के चार मुख उनकी शक्ति और सत्ता के प्रतीक होते हैं। चेहरों पर दाढ़ी है और वे आँखें बंद करके ध्यान कर रहे हैं। चार चौकोर भुजाएँ हैं, जिनमें अक्षमाला (माला), कुर्चा (कुशा घास), स्रुक (कछुआ), स्रुवा (चम्मच), कमंडल (पानी का बर्तन), और पुस्तक (पुस्तक) सहित विभिन्न वस्तुएँ हैं

उनका संयोजन और व्यवस्था छवि के आधार पर बदलती है। अक्षमाला समय का प्रतिनिधित्व करती है, जबकि कमंडल सभी सृष्टि के जल का प्रतिनिधित्व करता है। उपकरण, कुशा, स्रुक और स्रुवा, प्राणियों द्वारा एक दूसरे को बनाए रखने के लिए उपयोग की जाने वाली बलिदान प्रणाली का प्रतिनिधित्व करते हैं। पुस्तक में अपवित्र और धर्मनिरपेक्ष दोनों तरह के डेटा हैं। मुद्राएँ (हाथ की मुद्राएँ) अभय (रक्षक) और वरद (वरदान देने वाले) को मापती हैं।

ब्रह्मा जी को कमल पर खड़े या हंस पर बैठे हुए भी देखा जा सकता है। हंस ज्ञान और विवेक का प्रतीक है। ब्रह्मा को सात हंसों द्वारा खींचे गए रथ पर सवार भी दिखाया गया है, जो सात लोकों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

ब्रह्मा स्वयंभू या प्रजापति भी कहलाते हैं, एक अन्य किंवदंती के अनुसार भगवान विष्णु की नाभि से कमलदल से उत्पन्न हुए थे। पैदा होते ही इन्होंने चारों ओर देखना प्रारंभ किया जिससे इनके चार मुख बने और चतुर्मुखी कहलाए। इन्ही चार मुखों से चारों वेदों की उत्पत्ति हुई।

भगवान ब्रह्मा का पूरे भारत में सिर्फ एक ही मंदिर है, जो कि राजस्थान राज्य के अजमेर जिले में पवित्र तीर्थ पुष्कर में स्थित है। पुराणों के अनुसार खुद की पत्नी सावित्री के श्राप के चलते ब्रह्मा जी का पूरे भारत में एकमात्र मंदिर है।

मंत्र संग्रह
डेटा उपलब्ध नहीं है
भजन संग्रह
डेटा उपलब्ध नहीं है

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी