मंत्र संग्रह धार्मिक कार्यों, पूजा, अनुष्ठान आदि में मंत्रों का सर्वाधिक महत्त्व है। वैसे तो मंत्रों के अर्थ इतना महत्व नहीं रखते क्योंकि विशेषज्ञों का मानना है कि मंत्रों के अर्थ में नहीं बल्कि ध्वनि में शक्ति होती है।

‘मंत्र’ का अर्थ शास्त्रों में ‘मन: तारयति इति मंत्र:’ के रूप में बताया गया है, अर्थात मन को तारने वाली ध्वनि ही मंत्र है।
वेदों में शब्दों के संयोजन से ऐसी ध्वनि उत्पन्न की गई है जिससे मानव मात्र का मानसिक कल्याण हो। जिन्हें मंत्र कहा गया है।

ये किसी व्यक्ति विशेष द्वारा नहीं लिखे गए हैं अर्थात् किसी व्यक्ति के द्वारा इनकी रचना नहीं हुई है, बल्कि वर्षों की साधना के बाद ऋषि-मुनियों ने इन ध्वनियों को सुना है। विशेषकर बीज मंत्रों के बीजाक्षरों का अर्थ साधारण व्यक्ति के लिए समझना बहुत मुश्किल है। ऐसा माना जाता है कि मंत्रोच्चारण से ऐसी शक्ति उत्पन्न होती है जो भगवान को विचलित कर सकती है।

मंत्र जाप से उत्पन्न होने वाली तरंगों से वातावरण में कम्पन्न होता है। मंत्र जप से व्यक्ति को पूरे ब्रह्मांड की एकरूपता का ज्ञान प्राप्त होता है। मन का लय हो जाता है और मन भी शांत हो जाता है। मंत्रजप के अनेक लाभ हैं – आध्यात्मिक प्रगति, शत्रु का विनाश, अलौकिक शक्ति पाना, पाप नष्ट होना और वाणी की शुद्धि आदि।

गणेश मंत्र

गणेश मंत्र

।। सिंहः प्रसेनमवधीत् सिंहो जाम्बवता हतः सुकुमारक मा रोदीस्तव ह्येष स्यमन्तकः ।। ॐ गजाननाय नमः। ॐ गजकर्णकाय नमः।...

शनि मंत्र

शनि मंत्र

ॐ प्राँ प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः ॥ ॥ ॐ काकध्वजाय विद्महे खड्गहस्ताय धीमहि तन्नो मन्दः प्रचोदयात ॥...

बगलामुखी मंत्र

बगलामुखी मंत्र

ॐ आं ह्लीं क्रों हुं फट् स्वाहा॥ ह्लीं बगलामुखी विद्महे दुष्टस्तंभनी धीमहि तन्नो देवी प्रचोदयात्॥ ॐ आं ह्लीं...

चंद्रघंटा मंत्र

चंद्रघंटा मंत्र

ll प्रवररुधा चण्डकोप्तस्त्रकायेर्युतप्रसादम् तनुते माह्यं चन्द्रघण्टेति विश्रुता ll ॐ देवी चन्द्रघण्टायै नमः॥

गायत्री मंत्र

गायत्री मंत्र

ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ॥ ह्लीं बगलामुखी विद्महे दुष्टस्तंभनी धीमहि तन्नो...

चन्द्रमा मंत्र

चन्द्रमा मंत्र

|| ॐ सों सोमाय नम: || || ॐ श्रां श्रीं श्रौं सः चन्द्रमसे नमः || ।। श्वेतांबरः श्वेता...

कृष्ण मंत्र

कृष्ण मंत्र

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे || ||...

पंचाक्षर मंत्र

पंचाक्षर मंत्र

ॐ धूं धूमावती देवदत्त धावति स्वाहा॥ ॐ ह्रीं स्त्रीं हुं फट्॥ ॐ हूं स्वाहा ॐ॥ ॐ क्रीं ह्रुं...

शिव मंत्र

शिव मंत्र

ॐ नमः शिवाय॥ ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि तन्नो रुद्रः प्रचोदयात्॥

मां लक्ष्मी मंत्र

मां लक्ष्मी मंत्र

स्ह्क्ल्रीं हं॥ श्रीं क्लीं श्रीं॥ ॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मीभयो नमः॥ ॐ ह्रीं श्रीं क्रीं श्रीं कुबेराय अष्ट-लक्ष्मी मम...

हनुमान मंत्र

हनुमान मंत्र

ॐ आञ्जनेयाय विद्महे वायुपुत्राय धीमहि। तन्नो हनुमत् प्रचोदयात्॥ ॐ श्री हनुमते नमः॥

मां सरस्वती मंत्र

मां सरस्वती मंत्र

ॐ ऐं महासरस्वत्यै नमः॥ वद वद वाग्वादिनी स्वाहा॥ ऐं लृं॥ ॐ ऐं वाग्देव्यै विद्महे कामराजाय धीमहि।तन्नो देवी प्रचोदयात्॥...

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह