बसंत पंचमी Date: रविवार, 02 फरवरी 2025

माघ मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को बसन्त पंचमी Basant Panchami के रूप में मनाते हैं। यह दिन ऋतुराज बसन्त के आगमन की सूचना देता है। इस दिन भगवान विष्णु तथा सरस्वती का पूजन किया जाता है।

बसन्त पंचमी के दिन घरों में केसरिया चावल बनाये जाते हैं तथा पीले कपड़े पहनते हैं। बच्चे पतंग उड़ाते हैं।

कथा : भगवान विष्णु की आज्ञा से प्रजापति ब्रह्माजी सृष्टि की रचना करके पृथ्वी पर आये तो उन्हें चारों ओर सुनसान तथा निर्जन दिखाई दिया। उदासी से सारा वातावरण मूक सा हो गया था। जैसे किसी के वाणी न हो।

इस उदासी तथा मलीनता को दूर करने के लिए ब्रह्माजी ने अपने कमण्डल से जल छिड़का। उन जल कणों के वृक्षों पर पड़ते ही चार भुजाओं वाली एक शक्ति उत्पन्न हुई जो दो हाथों से वीणा बजा रही थी तथा दो हाथों में पुस्तक तथा माला धारण किये थी। ब्रह्माजी ने उस देवी से वीणा बजाकर उदासी दूर करने को कहा।

उस देवी ने वीणा बजाकर सब जीवों को वाणी प्रदान की। इस देवी का नाम सरस्वती पड़ा। यह देवी विद्या और बुद्धि को देने वाली है। इसलिए हर घर में इस दिन सरस्वती का पूजन होता है ।

Comments

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी