बोलो रघुपति राघव राजा राम
श्री राम जय राम जय जय राम

रावण ने अत्याचार मचाया,
वेश्याओं के खून से घड़ा भराया,
सब श्रषियो ने मिलके पुकारा,
दशरथ के घर जन्मे राम,
श्री राम जय राम जय जय राम……

राजा जनक ने हल को चलाया,
सीता निकली घड़ा जो फुटा,
कन्या बोली जय श्री राम,
श्री राम जय राम जय जय राम……

राजतिलक की हुई तैयारी,
मां केकई ने बात बिगाड़ी,
14 बरस वन को भेजो राम,
श्री राम जय राम जय जय राम……

पंचवटी पर कुटिया बनाई,
सरूपनखा की नाक कटाई,
खर दूषण को मारा राम,
श्री राम जय राम जय जय राम……

पवन पुत्र हनुमान से मिलके,
राजा सुग्रीव से मित्रता करके,
बाली का किया काम तमाम,
श्री राम जय राम जय जय राम…..

लंकापुरी जाय रावण मारा,
धरती का सब भार उतारा,
राज विभीषण दिलाया राम,
श्री राम जय राम जय जय राम…..

श्रीराम का यश है न्यारा,
लंका में हुई जय जय कारा,
सीता को ले आए राम,
श्री राम जय राम जय जय राम…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह