जय महाकाल राजा
जय महाकाल राजा, भोले जय गौरी नाथा,
तीर्थ अवन्ती विराजे, भक्तों की रखे लाजा…

ज्योतिर्लिंग स्वरूपा कालों के महाकाल,
दक्षिणमुख में विराजे, मृत्युंजय महाकाल,
ॐ जय महाकाल राजा…..
तारक लिंग आकाश में पाताल हाटकेश्वरम,
भूलोक में विराजे, बाबा महाकालेशवरम,
ॐ जय महाकाल राजा…..

भस्म आरती बाबा,जग में है न्यारी,
त्रिगुणाकार छवि बाबा, भक्तों को लगे प्यारी,
ॐ जय महाकाल राजा…..

मंत्र तेरा पंचाक्षरी, ॐ नमः शिवाय,
जपते-जपते प्राणी के जन्म-मरण मिट जाये,
ॐ जय महाकाल राजा…..

शीश में चन्द्र विराजे और जटा में है गंगा,
करते नंदी सवारी, गले में भुजंगा,
ॐ जय महाकाल राजा…..

आरती बाबा महाकाल की, जो कोई गावे,
कहत सत्य श्री मुख से, सुख-संपति पावे,
ॐ जय महाकाल राजा…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह