आरती राधा जी की कीजै। टेक
कृष्ण संग जो कर निवासा, कृष्ण करें जिन पर विश्वासा।

आरति वृषभानु लली की कीजै। आरती…
कृष्णचन्द्र की करी सहाई मुंह में आनि रूप दिखाई।

उस शक्ति की आरती कीजै। आरती…
नन्द से प्रीति बढ़ाई, जमुना तट पर रास रचाई।

आरती रास रचाई की कीजै। आरती…
प्रेम राह जिसने बतलाई, निर्गुण भक्ति नहीं अपनाई।
आरती राधा जी की कीजै। आरती…
दुनिया की जो रक्षा करती, भक्तजनों के दुख सब हरती।

आरती दुःख हरणी जी की कीजै। आरती.
कृष्णचन्द्र ने प्रेम बढ़ाया, विपिन बीच में रास रचाया।

आरती कृष्ण प्रिया की कीजै। आरती.
दुनिया की जो जननी कहावे, निज पुत्रों की धीर बंधावे।

आरती जगत मात की कीजै। आरती…
निज पुत्रों के काज संवारे, रनवीरा के कष्ट निवारे
आरती विश्वमात की कीजै। आरती राधा जी की कीजै…।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह