हर साल मैं आती हूँ मैया तेरे दर पे,
इक बार तू भी आजा ओ माँ मेरे घर पे,
मैं तेरी ज्योत जलाऊँगी चुनरी लाल चढ़ाऊँगी,
पूजा का थाल सजा के मैं तेरी आरती गाऊँगी……..

आप भी आना अपने संग में शिव शम्भु को लाना,
गणपति और हनुमान जी भैरोंनाथ को नहीं भूलना,
ना आयी तो मारेगी ताना ये दुनिया मुझपे,
इक बार तू भी आजा ओ माँ मेरे घर पे……

तुम सावित्री तुम गायत्री तुम लक्ष्मी ब्रह्मनी मैया तुम लक्ष्मी ब्रह्मनी,
शारदे माता पार्वती हो मैय्या तुम गौरी कल्याणी,
तेरी दया से चाँद और सूरज चमके अम्बर पे,
इक बार तू भी आजा ओ माँ मेरे घर पे……

पूरी करना मेरी मुरादें भक्त हैं तुम्हारे,
तुम भक्तों की सुनती आयी है,
विश्वास हमारे मैया है विश्वास हमारे,
अब हाथ दया का माँ रखना मेरे सर पे,
इक बार तू भी आजा ओ माँ मेरे घर पे……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह