शेरावाली मैया तेरी ज्योत कैसी,
जिसने जगाई उसका मंगल करती………..

ज्योत जलाई पांडव ने माँ मनमोहन को पाया था,
महाभारत युद्ध जीता और नारी का मान बढ़ाया था,
देके दर्शन मैया सबकी लाज रखती,
जिसने जगाई उसका मंगल करती,
शेरावाली मैया तेरी ज्योत कैसी,
जिसने जगाई उसका मंगल करती………..

ज्योत जलाई अकबर ने माँ मन का वहम मिटाया था,
उसने में का छत्र चढाया माँ ने जलवा दिखाया था,
मैया तू सब पे मेहरबान रहती,
जिसने जगाई उसका मंगल करती,
शेरावाली मैया तेरी ज्योत कैसी,
जिसने जगाई उसका मंगल करती………..

ज्योत जलाई ध्यानू ने माँ भक्ति में शक्ति दिखाई थी,
शीश काट चरणों में चढाया उसको जिन्दा कर दिया था,
तेरी जय जयकर सारे जग में फैली,
जिसने जगाई उसका मंगल करती,
शेरावाली मैया तेरी ज्योत कैसी,
जिसने जगाई उसका मंगल करती………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह