आजो जी आजो थे पार्वती रा ललना,
गजानंद थारो ध्यान धरा,
थारो ध्यान धरा,
म्हारे घर आजो जी,
आजो जी आजो थे पार्वती रा ललना।।

थे आजो रिद्धि सिद्धि,
सागे ल्याजो जी,
सबसु पहला सुमिरा सिद्ध,
करा सब काज जी,
आओ भक्ता रा प्रतिपाला जी,
आओ भक्ता रा प्रतिपाला जी,
थारो गुणगान करा,
आजो जी आजो थे पार्वती रा ललना।।

पिता है थारा महादेव जी,
पार्वती राखे प्यारा,
थे म्हारी नैना री ज्योति,
थासु जग उजियारा,
दीजो सगला संकट टाल जी,
दीजो सगला संकट टाल जी,
थारो सम्मान म्हे करा,
आजो जी आजो थे पार्वती रा ललना,
गजानंद थारो ध्यान धरा,
थारो ध्यान धरा,
म्हारे घर आजो जी,
आजो जी आजो थे पार्वती रा ललना।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि

संग्रह