सालासर गयी थी बाबा का रंग चढ़ गया,
बाबा जी पै गई थी बाबा का रंग चढ़ गया……..

सास न मैं ले गई हे सुसरा भी संग चढ़ गया,
सास धोक मारे हे सुसर तो मुद्दा पड़ गया,
पड़ गया पड़ गया पड़ गया हे सालासर रुक्का पड़ गया……..

जेठानी न मैं ले गई हे जेठा भी गैल्या चढ़ गया,
जेठानी धोक मारे हे जेठ तो मुद्दा पड़ गया,
पड़ गया पड़ गया पड़ गया हे सालासर रुक्का पड़ गया……..

दोराणी न मैं ले गई हे देवर भी गैल्या चढ़ गया,
जेठानी धोक मारे हे जेठ तो मुद्दा पड़ गया,
पड़ गया पड़ गया पड़ गया हे सालासर रुक्का पड़ गया……..

नंदी न मैं ले गई हे नन्दोंईया गैल्या चढ़ गया,
नंदी धोक मारे हे नन्दोंईया तो मुद्दा पड़ गया,
पड़ गया पड़ गया पड़ गया हे सालासर रुक्का पड़ गया…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह