मेरी सुनलो मारुति नंदन,
काटो मेरे दुख के बंधन,
हे महावीर बजरंगी,
तुम्हे कहते है दुख भंजन……

मुझ पर भी करुणा करना,
मैं आया शरण तुम्हारी
मैं जोड़े हाथ खड़ा हूँ,
तेरे दर का बना भिखारी
तुम सबसे बड़े भंडारी,
मैं पानी तुम हो चंदन,
हे महावीर बजरंगी,
तुम्हे कहते है दुख भंजन……

तेरा नाम बड़ा दुनिया में,
सब तेरा ही गुण गाये,
इस जग के सब नर नारी,
चरणों में शीष नवाए,
कर भव से पार मुझे भी,
हे बाबा संकट मोचन,
हे महावीर बजरंगी,
तुम्हे कहते है दुख भंजन…….

मैने तेरी आस लगाई,
बाबा हनुमान गुसाई,
जब भीड़ पड़ी भक्तो पे,
तूने ही करी सहाइ
वीरान करे है दुहाई,
प्रभु दीजो मोहे दर्शन,
हे महावीर बजरंगी,
तुम्हे कहते है दुख भंजन……

मेरी सुनलो मारुति नंदन,
काटो मेरे दुख के बंधन,
हे महावीर बजरंगी,
तुम्हे कहते है दुख भंजन……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह