मन तोसों कोटिक बार कहीं।
समुझि न चरन गहे गोविन्द के, उर अघ-सूल सही॥
सुमिरन ध्यान कथा हरिजू की, यह एकौ न रही।
लोभी लंपट विषयनि सों हित, यौं तेरी निबही॥
छांड़ि कनक मनि रत्न अमोलक, कांच की किरच गही।
ऐसो तू है चतुर बिबेकी, पय तजि पियत महीं॥
ब्रह्मादिक रुद्रादिक रबिससि देखे सुर सबहीं।
सूरदास, भगवन्त-भजन बिनु, सुख तिहुं लोक नहीं॥

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह