आओ दिल ने तुमको पुकारा,
हर पल तुम्हारी याद आती रहे राघव, आती रहे,
तेरी छवि मन को लुभाती रहे,
हर पल तुम्हारी याद आती रहे…..

फूलों और कलियों में तेरी हंसी हो,
बुलबुल के गीतों में तेरी खुशी हो,
वाणी तेरे गुण गाती रहे,
हर पल तुम्हारी याद आती रहे…..

कुछ भी नहीं था सिवा तेरे प्यारे,
जो कुछ भी था सब तेरे हवाले,
नैनो में तेरी छबि समाती रहे,
हर पल तुम्हारी याद आती रहे…..

प्रभु हम भक्तों की चाह यही है,
श्रीराम मिलन की आस जगी है,
( प्रेम में कुछ इस तरह मगरुर हो जाऊंगा मैं,
श्याम तुम बनना समा ताफुर हो जाऊंगा मैं,
मै जो गर चाहूं तो चाहूं तुम न मुझको चाहना,
और तुम जो गर चाहे तो फिर मशहूर हो जाऊंगा मैं।। )
प्रभु हम भक्तो की चाह यही है,
श्रीराम मिलन की आस जगी है,
जीभा ये नाम गुनगुनाती रहे,
हर पल तुम्हारी याद आती रहे राघव आती रहे,
तेरी छबि मन को लुभाती रहे…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह