भजदे ढोल ते छेने सुगना दे वीर दे,
की कहने की कहने मेरे रामा पीर दे,

धरती नचे अम्बर नचे नच्दे चंद सितारे,
एसी किरपा करती बाबा हो गये वारे न्यारे,
मेले लगदे रहने मेरे रामा पीर दे,
की कहने की कहने सुगना दे वीर दे,

नाम तेरे दी एसी मस्ती सब भगता ते चड गई,
भव सागर विच डूबदी वेह्डी तेरे आसरे तर गई,
जावा बलिहार कि केहने मेरे रामा पीर दे,
की कहने की कहने सुगना दे वीर दे

जो भी आया दर तेरे ते सबना ने तर जाना,
लक्की वांगु नाम तेरे विच रंगिया जिहने वाना,
सोनू तू मन ले कहने मेरे रामा पीर दे,
की कहने की कहने सुगना दे वीर दे

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह