सालासर वारो, मेरो बाला जी आवो
अंजनी के लाला आवो भोग लगावो

1.स्वर्ण सिंहासन पे आसन सज्यो है
दरश को द्वारे बाबा मेला लग्यो है
मंगल शनिवार थारो मन बड़ो भावो…..

2.मान मनौती रातिजगा दीयो है
कथा कीर्तन गुणगान कियो है
स्वीकार कर हमें शरण में लगावो….

3.खीर, चूरमा,नरेल, रोट धरयो है
थाल में पान-बीड़ो, लाडु पड़यो है
चाखो बाला जी इसे अमृत बनावो…..

4.बावलिया स्वामी भगत मोहनदास आयो
संग कान्ही बाई उदयराम को लायो
प्रेम से बाबा लाडु हलवा पूरी खावो….

5.कहे ‘‘मधुप’’ क्षमा अपराध करना
पड़े हैं शरण थारी दुःख दोष हरना
भोग लगावो नाम रस बरसावो…..।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह