आओ गजानंद जी तुम्हें प्रथम मनाएंगे,
मेवे और लड्डुओं का हम भोग लगाएंगे….

मूषक पे चढ़ाआना रिद्धि सिद्धि को संग लाना,
चरणों में तेरे प्रभु हम पलके बिछाएंगे,
आओ गजानंद जी तुम्हें प्रथम मनाएंगे…..

सब वेदों के ज्ञाता हो तुम भाग्य विधाता हो,
शुभ लाभ के प्यारे हम गुण तेरे गाएंगे,
आओ गजानंद जी तुम्हें प्रथम मनाएंगे…..

कीर्तन की तैयारी है यही अर्जी हमारी है,
कुक्की करे विनती तुम्हें दिल से रह जाएंगे,
आओ गजानंद जी तुम्हें प्रथम मनाएंगे…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह