मेरे जीवन की डोर गणेश तेरे हाथों में,
तेरे हाथों में तेरे हाथों में,
मेरे जीवन की डोर….

जब गणपति तेरी चौकी सजाऊं,
देख रहे सब देव गणेश मेरे अंगना में,
मेरे जीवन की डोर…..

जब गणपति तोहै चौकी पर बिठाए,
आय ब्रह्मा विष्णु महेश गणेश मेरे अंगना में,
मेरे जीवन की डोर…..

जब गणपति तेरे चरण धुलाय,
गंगा करें प्रवेश गणेश मेरे अंगना में,
मेरे जीवन की डोर…..

जब गणपति तुम्हें हार पहनाए,
बरसत फूल अनेक गणेश मेरे अंगना में,
मेरे जीवन की डोर…..

रिद्धि सिद्धि तेरे संग में आए,
आए गए सब देव गणेश मेरे अंगना में,
मेरे जीवन की डोर…..

अंगना में तेरा कीर्तन कराया,
नाच रहे सब देव गणेश मेरे अंगना में,
मेरे जीवन की डोर……

जब गणपति तेरा भोग लगाया,
बरस रहे हैं कुबेर गणेश मेरे अंगना में,
मेरे जीवन की डोर…..

जब गणपति तेरा दर्शन पाया,
मिट गए सभी क्लेश गणेश मेरे जीवन में,
मेरे जीवन की डोर…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह