आये है गौरी गणेश, आज मोरे अंगना में,
गूंजे लगन बाजे ढोल, आज मोरे अंगना में…..

हरे हरे मंडप तले चौंक पुराऊ,
बीच में गौरी गणेश को बिठाऊ,
होगा सकल शुभ काज, आज मोरे अंगना में,
आये है गौरी गणेश……

गौरी को चुनरी गणेश को पीताम्बर,
फूलों का हार पहनाऊ अतिसुंदर,
माथे चढ़ाऊ सिन्दूर लाल, आज मोरे अंगना में,
आये है गौरी गणेश……

अक्षत चंदन धुप और बाती,
चौमुख ज्योत जलाऊ दिन राति,
भोग लगाउ भर थाल, आज मोरे अंगना में,
आये है गौरी गणेश……

गौरी मईया देगी सुख सौभाग्य,
गणपति देंगे शुभ और लाभ,
विघ्नो का होगा विनाश, आज मोरे अंगना में,
आये है गौरी गणेश……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि

संग्रह