ओ देवा गणपति देवा,
ओ देवा गणपति देवा,
सारी उम्र करुँगी सेवा,
के भक्तो की लाज रखना….

तेरे माथे तिलक विराजे,
तेरे माथे तिलक विराजे,
तेरा प्रेम भक्तो में है जागे,
के भक्तो की लाज रखना…..

ये माला फूलो की माला,
ये माला फूलो की माला,
करे सारे जग में उजाला,
के भक्तो की लाज रखना….

तुम शिव शंकर के प्यारे,
तुम शिव शंकर के प्यारे,
गौरा के आँख के तारे,
के भक्तो की लाज रखना…..

सारे भगत कीर्तन गावे,
सारे भगत कीर्तन गावे,
और मिल के ज्यो जगावे,
के भक्तो की लाज रखना…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह