सबसे पहले तुमे मनाये,
रात और दिन हर रोज,
हो किरपा तेरी मुझ पर है,
मै करता हु मौज,
बाबा गणपति कि फ़ौज,
करेगी मौज……

जब से मैंने माना तुझको,
बदली मेरी सोच,
मै हु तेरा स्टूडेंट और,
तु है मेरा कोच,
बाबा गणपति कि फ़ौज,
करेगी मौज……

देखो गणपति आयो,
संग सिद्धि सिद्धि लायो,
मोरा सोया भाग जगायो रे,
मोरे अंगना गजानन आयो रे…

हो जलते थे जो मुझसे बाबा,
बाज गयी उनकी बैंड,
चाहे कुछ भी कहे,
जमाना मै हु तेरा फ्रेड,
बाबा गणपति कि फ़ौज,
करेगी मौज……

सबसे पहले तुमे मनाये,
रात और दिन हर रोज,
हो किरपा तेरी मुझ पर है,
मै करता हु मौज,
बाबा गणपति कि फ़ौज,
करेगी मौज…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी

संग्रह