गौरी गणराज तुम्हे पहले नमन करते है,
पहले पूजेंगे तुमको पहले याद करते है।।

जो भी दर पे तुम्हारे आता है,
झोली भरके खुशी से जाता है,
गाए महिमा तुम्हारी मिलके भजन करते है,
पहले पूजेंगे तुमको पहले…..

तेरी मूरत बड़ी लुभानी है,
मन मोहनी छबि सुहानी है,
तेरी सुंदर छबि का दर्शन सजन करते है,
पहले पूजेंगे तुमको पहले…..

दरबार निराला है तेरा जहां, बिगड़ी बनाई जाती है,
जो भी आता द्वार तुम्हारे, सरगम जलाई जाती है।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह