हां गणपति भप्पा आओ तुम रिधि सीधी संग में लाओ
आओ हमरे द्वारे घ्जानन्द मुश्क चढ़ कर आओ
हां गणपति भप्पा आओ तुम रिधि सीधी संग में लाओ

हर पूजन में जो तुम को मनाते
सब से पेहले तुम को ध्याते
उनके सारे कष्ट हटा के दुःख को मिटा के पूरण काज कराओ
हां गणपति भप्पा आओ तुम रिधि सीधी संग में लाओ

पार्वती के पुत्र हो प्यारे भोले नाथ है पिता तुम्हारे
सारे जग के तुम रखवारे विधन हरता कहलाओ
हां गणपति भप्पा आओ तुम रिधि सीधी संग में लाओ

भक्त तुम्हे सिंदूर लगाते
दही दूध से इशनान कराते
फूलो की माला को पेहन के मोदक भोग लगाओ
हां गणपति भप्पा आओ तुम रिधि सीधी संग में लाओ

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह