कष्टों को जिसने पल में मिटाया वो है गजानन

देव धनुज जिन्हें शीश झुकाए
देवा की गाथा देखो मिल कर गाये
ऐसा जो मानव सब से निराला
वो है घजानन हां वो घजानन

देवा है मेरा देखो महा दानी
सब को वर देते वरदानी
दर से देवा खाली न जाता
वो है घजानन हां वो घजानन

मुस्क सवारी देखो देवा मन भाये
सेवा है करके मुश्क को प्रभु गुण गाये
ररिधि सीधी के वो स्वामी
वो है घजानन हां वो घजानन

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि

संग्रह