लो जी आ गए है…..-2
लो जी आ गए है गणपति
चूहे पे सवार होके आ गए है ॥

पिता है जिनके, कैलाश वासी,
कैलाश वासी जी कैलाश वासी,
कैलाश पर्वत के, लगते जो नाती,
लगते जो नाती जी लगते जो नाती,
युग करता सुख करता नाम है जिनके
भक्तो की बिगड़ी बना गए है….लो जी आ गए है….

माता पिता का वो चक्कर लगाते,
चक्कर लगाते जी चक्कर लगाते,
माता पिता को ही सृष्टि में पाते,
सृष्टि में पाते जी सृष्टि में पाते,
भक्तो की अपने पुकार को सुनकर
सबके दिलों में समा गए है…. लो जी आ गए है…..

प्रथम पूजा का वो अधिकार पाते,
अधिकार पाते जी अधिकार पाते,
सबके दिलों में जी बप्पा जी छाते,
बप्पा जी छाते जी बप्पा जी छाते,
भक्तो के घर को सुखों से भरते
दुखो को संग ले जाते है….लोजी आ गए है,
लो जी आ गए है गणपति
चूहे पे सवार होके आ गए है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह