बंगला अजब बना महाराज जिसमें नारायण बोले,
नारायण बोले यामें नारायण बोले,
बंगला अजब बना महाराज जिसमें नारायण बोले॥

पांच तत्वों की ईट बनाई तीन गुनो का गारा,
छत्तीसों की छत बनाई चेतन है चेजारा,
बंगला अजब बना…..

इस बंगले में दस दरवाजे बीच पवन का खंबा,
आवत जावत कछु नहीं देखे यह भी एक अचंभा,
बंगला अजब बना….

इस बंगले में चौपड़ मांडी खेले पांच पच्चिसा,
कोई तो बाजी हार चला है कोई चला जग जीता,
बंगला अजब बना….

इस बंगले में पातर नाचे मनवा ताल बजावे,
निरित सूरत का बांध घुंघरू राग छत्तीस गावे,
बंगला अजब बना…..

कहत कबीर सुनो भाई साधु जिन यह बंगला गाया,
इस बंगले का गावन हारा बहुरि जन्म नहीं पाया,
बंगला अजब बना…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह