मनाओ गणपत जी को आज,
हो जायेंगे सब पुरण काज,
लड्डुअन का भोग लगाएंगे,
करेंगे पूजा दिन और रात,
मनाओ गणपत जी को आज….

माँ गौरा के राज दुलारे,
शिव जी को तुम प्राणों से प्यारे,
गजानन तुमको सब कहते है,
दुखियों के दुःख को हरते है,
मनाओ गणपत जी को आज….

तुम्हारे जैसा देव ना दूजा,
सब करते है तुम्हारी पूजा,
मूषक बाबा तुम्हारी सवारी,
गजानन सुनलो विनती हमारी,
मनाओ गणपत जी को आज……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह