मोरे अंगना पधारो हे गजानन,
जोड कर और तेरे पखारू चरण,
मोरे अंगना पधारो हे गजानन….

सज गयी सारी गलिया,
सज गये सब नगर,
अपनी पलकों से हमने,
सजायी डगर,
राह तेरी निहारे है पल पल नयन,
मोरे अंगना पधारो हे गजानन,
जोड कर और तेरे पखारू चरण,
मोरे अंगना पधारो हे गजानन…….

आरती तेरे गुण टेर गायेंगे हम,
और चन्दन का टिका लगायेंगे हम,
तोरे गंगा के जल से धुलाये चरण,
मोरे अंगना पधारो हे गजानन,
जोड कर और तेरे पखारू चरण,
मोरे अंगना पधारो हे गजानन…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह