तूने इतना दिया बनवारी ओ बांके बिहारी,
के मैं तो मालामाल हो गया,
मेरे मोहन सुनो मैं मालामाल हो गया….

एक मैं हूं कभी शुक्रिया ना किया,
एक तुम हो कि रहमत किए जा रहे,
तूने इतना दिया बनवारी…..

मैं हूं खता पे खता कर रहा,
एक तुम हो के माफी दिए जा रहे,
मेरे प्यारे सुनो मैं मालामाल हो गया,
मेरे मोहन सुनो मैं मालामाल हो गया…..

मैंने माना कि मैं तो गुनहगार हूं,
मैं गुनहगार हूं मैं खतावार हूं,
काम नेकी का कोई किया ही नहीं,
आप फिर भी सहारा दिए जा रहे…..

तेरी रहमत के चर्चे हुए हैं बहुत,
गम के मारे हुए खुश हुए हैं बहुत,
मेरे विश्वास को तूने ही भर दिया,
मैं तो नाचीज हूं तूने क्या कर दिया…..

मैं हूं इतना बड़ा भाग्यशाली,
हो बांके बिहारी आपने तो निहाल कर दिया,
तूने इतना दिया बनवारी ओ बांके बिहारी,
के मैं तो मालामाल हो गया…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह