( देवा तेरी शान निराली, देवों के सरदार,
सबसे पहले पूजे तुमको, ओ मेरे सरकार। )

जय हो गणराजा जी,
हो मै तो बलिहारी जाऊ तेरे नाम की,
गौरा के तुम लाल प्रभी जी, अजब की शान तुम्हारी,
सबसे पहले तुमको पूजे, पूजे दुनिया सारी,
मोरे गणराजा जी…
हो मै तो बलिहारी जाऊं तेरे नाम की….

बुद्धि विनायक गण पति देवा, तेरी महिमा निराली,
हर भक्तों की विनती सुनते , पल मे दुविधा टाली,
चरणों मे मेरा तन, तुझको है सब अर्पण,
गजानन राजा जी,
हो मै तो बलिहारी जाऊं तेरे नाम की…..

परिक्रमा कर मात पिता की , तीनों लोक गुण गाएं,
चारों धाम हैं चरणों मे इनके , सबको ये समझायें,
धन्य धन्य प्रभु जी तुम, जीते मात पिता का मन,
मोरे गण राजा जी,
हो मै तो बलिहारी जाऊं तेरे नाम की…..

कोटी कोटी तुमको नमन है, मोरे गणपति राजा,
श्रद्धा सुमन है तुमको अर्पण , मोरे गणपति राजा,
गाएं हम सब तेरे गुण, तुमको पुजूँ हर दम,
मोरे गण राजा जी,
हो मै तो बलिहारी जाऊं तेरे नाम की…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि

संग्रह