सजा दो घर को गुलशन सा मेरे सरकार आए हैं,
रिद्धि सिद्धि को संग लेकर, मेरे सरकार आए हैं…..

लगे ऐसी छवि प्यारी, देख जिसे जी नहीं भरता,
लगाओ मखमली आसान, मेरे सरकार आए हैं,
सजा दो घर को गुलशन सा मेरे सरकार आए हैं…..

एक बार गणपति का तू दीवाना बन,
जलवा जो देखना है तो मस्ताना बन,
एक बार नाम ले ले उसका तर जाएगा,
खाली हाथ आया है खाली ना जाएगा…..

वो जिसके घर मे आएंगे खुशियां भर भर के लाएंगे,
लगा दो फूलों की लड़ियाँ, मेरे सरकार आए हैं,
सजा दो घर को गुलशन सा मेरे सरकार आए हैं…..

हो चाहे महल या कुटिया सभी घर आज रौशन हैं,
गली चौबारे महकाओ, मेरे सरकार आए हैं,
सजा दो घर को गुलशन सा मेरे सरकार आए हैं…..

लगे घर मेरा मंदिर सा, गणेशा आए घर मेरे,
खुशी में झूमे घर आँगन, मेरे सरकार आए हैं,
सजा दो घर को गुलशन सा मेरे सरकार आए हैं…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह