पवनपुत्र बजरंग बली का भक्ति भाव से कीजै ध्यान,
जहाँ होगी राम धुंन ,वहां विराजै हनुमान,
जय हनुमान जय हनुमान,मोचन जय हनुमान,
जहाँ होगी राम धुंन ,वहां विराजै हनुमान………

राम के काज करने को आतुर,
रहत सदा हनुमान,
लका जाकर सीता को ढूंढा,
ऐसे हैं हुनमान,
सिय की व्यथा राम को सुनाई, खुद रो पड़े हुनमान……

हनुमत के चरणन मे पड़े रहो,
जव तक न दे आशीष,
पवनपुत्र हनुमान के समुख,
झुका दो अपना शीष,
पवनपुत्र बजरग बलि का, कीजे रोज ध्यान…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह