मैं जब जानू मेरे बालाजी,
जब होवे सगाई मेरे लाला की……

तेरे धाम पर ज्योत जलाऊंगी,
मैं बहू बेटे को लाऊंगी,
मेरे घर होवे खुशियां सारी, जब होवे सगाई मेरे लाला की……

मैं पढ़ू चालीसा दिन राती,
अब मुझको नींद नहीं आती,
तेरी जपती मैं माला जी, जब होवे सगाई मेरे लाला की……

मेरे घर में दीपक जब आवे,
अंगना में पलना डल जावे,
पोतौ को गोद खिलाऊंगी, जब होवे सगाई मेरे लाला की….

मैं घर में सत्संग कराऊंगी,
और भक्त मंडली बुलाऊगी,
हमें दरस दिखाना बालाजी, जब होवे सगाई मेरे लाला की……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह