बांके बिहारी तुम्हें देखकर मेरे नैना उलझ गए,
नैना उलझ गए मुश्किल में पड़ गए,
बांके बिहारी तुम्हें देखकर मेरे नैना उलझ गए…..

जब मैं जाऊं फुलवा तो़ड़न को फुलवा तो़ड़न को,
मालिन से मिलते देख के मेरे नैना उलझ गए,
बांके बिहारी तुम्हें देखकर मेरे नैना उलझ गए…..

जब मैं जाऊं पनिया भरण को,
सखियों से मिलते देख कर मेरे नैना उलझ गए,
बांके बिहारी तुम्हें देखकर मेरे नैना उलझ गए…..

जब मैं जाऊं जमुना नहाने,
चीर चुराते देखकर मेरे नैना उलझ गए,
बांके बिहारी तुम्हें देखकर मेरे नैना उलझ गए…..

जब मैं जाऊं दही बेचन को,
माखन चुराते देखकर मेरे नैना उलझ गए,
बांके बिहारी तुम्हें देखकर मेरे नैना उलझ गए…..

जब मैं जाऊं पूजा करण को,
राधा के संग तुम्हें देखकर मेरे नैना उलझ गए,
बांके बिहारी तुम्हें देखकर मेरे नैना उलझ गए…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह