हिँय मंदिर सियाराम बिराजै,
राम नाम की फेरत माला,
येहि मुख गुन कस गाउँ बाला ।।

लाँघि सिन्धु सिय शोक निवारे
लंक बिन्ध्वंश राख करि डाला,
येहि मुख गुन कस गाउँ बाला ।।

धाय बैद्य अरु बूटी लाये,
लक्ष्मण प्राण बचाने वाला,
येहि मुख गुन कस गाउँ बाला ।।

अहिरावण सैन्य समेत संघारे,
रावण दम्भ मिटाने वाला,
येहि मुख गुन कस गाउँ बाला ।।

सतयुग त्रेता द्वापर कलियुग,
युग युग के प्रभु देव निराला,
येहि मुख गुन कस गाउँ बाला ।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह