ना किसी से दोस्ती ना किसी से बैर,
हम प्रेमी श्री श्याम के ना रखते दिलों में बैर….

चौबीसो घंटे मुख पे मुस्कान हमारे रहती,
कुछ भी न हो भले पहचान हमारी बनती,
पहचान हमारी बनती,,
सबके लिए दुआओं में मांगे सबकी खैर,
हम प्रेमी श्री श्याम के ना रखते दिलों में बैर……

एक दूजे का नाता रिश्ता रखता है बना के,
सुख दुःख का सहारा सुनता है गले लगा के,
सुनता है गले लगा के,,
ह्रदय में बस भाव रखो आएगा देर सावेर,
हम प्रेमी श्री श्याम के ना रखते दिलों में बैर…..

श्याम को जाके सुनना पलकें अपनी बिछाना,
ज़रा भी ना शर्माना नज़रो से नज़रें मिलाना,
नज़रो से नज़रें मिलाना,,
आजा सज्जन बेधड़क हो गया तुझपे महर,
आजा रौनक बेधड़क हो गया तुझपे महर,
हम प्रेमी श्री श्याम के ना रखते दिलों में बैर…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह