घर घर में बस रहा है मेरा श्याम खाटू वाला,
मेरा श्याम खाटू वाला मेरा श्याम लीले वाला,
लीला है इसकी न्यारी हारे का है सहारा,
घर घर में बस रहा है मेरा श्याम खाटू वाला….

जो हार कर है आया उसको दिया सहारा,
मैं भी हार गया हूं मुझको भी दो सहारा,
घर घर में बस रहा है मेरा श्याम खाटू वाला….

तेरी एक झलक को बाबा हम सब ही हैं तरसते,
उस एक झलक ने बाबा मेरी जिंदगी को तारा,
घर घर में बस रहा है मेरा श्याम खाटू वाला….

मोह माया के जगत में उलझा हुआ हूं बाबा,
मुझे चरणों से लगा लो मेरा श्याम मुरली वाला,
घर घर में बस रहा है मेरा श्याम खाटू वाला…..

खाटू में जो भी आया उसे रास्ता दिखाया,
तेरे खाटू की यह माटी गाय तेरा फसाना,
घर घर में बस रहा है मेरा श्याम खाटू वाला……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा

संग्रह