श्याम खता क्या मेरी है,
श्याम खता क्या मेरी है,
खाटु वाले श्याम हमारे,
क्यों रूठे हो आप,
खता क्या मेरी है……

अपने भक्तो को बाबा,
यूँ बिसराना ठीक नहीं,
प्रीत लगाकर के दाता,
हाथ छुड़ाना ठीक नहीं,
थारेस्यू म्हारी प्रीत पुराणी,
सुणल्यो मन की बात,
खता क्या मेरी है,
खाटु वाले श्याम हमारे,
क्यों रूठे हो आप,
खता क्या मेरी है……

बिच भवर में नाव पड़ी,
था बिन बाबा कोण धणी,
सेवा बाबा नाए बणी,
करणी पड़सी दया घणी,
छोड़ तने मैं जाऊँ कठे श्याम,
छोड़ तने मैं जाऊँ कठे श्याम,
दिखे ना दूजो द्वार,
खता क्या मेरी है,
खाटु वाले श्याम हमारे,
क्यों रूठे हो आप,
खता क्या मेरी है……

मेरो तो आधार तू ही,
साचो हिम्मतदार तू ही,
थाने छोड़ कठे जाऊँ,
पत को राखणहार तू ही,
शिव की डोरी छोड़ ना देना,
शिव की डोरी छोड़ ना देना,
रखना अपने हाथ,
खता क्या मेरी है,
खाटु वाले श्याम हमारे,
क्यों रूठे हो आप,
खता क्या मेरी है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह