तर्ज – तेरा मेरा प्यार अमर

तेरा हाथ है जो सर पर,
मुझको फिर किस बात का डर,
यूँ ही अपना हाथ सदा,
बाबा रखना मेरे सर पर,
तेरा हाथ हैं जो सर पर,
मुझको फिर किस बात का डर….

मेरा श्याम हर घड़ी,
कोई फ़िक्र मुझको नहीं,
ना ही डर की बात है,
रहता मेरे साथ है,
मुझको फिर किस बात का डर,
यूँ ही अपना हाथ सदा,
पल रखता मेरी खबर,
बाबा रखना मेरे सर पर,
तेरा हाथ हैं जो सर पर,
मुझको फिर किस बात का डर…..

ख्वाइश मन की मेरी,
हो गयी पूरी सभी,
दिल में अब कोई मेरे,
आरजू बाकी नहीं,
श्याम अब है मेरा हमसफर,
मुझको फिर किस बात का डर,
यूँ ही अपना हाथ सदा,
बाबा रखना मेरे सर पर,
तेरा हाथ हैं जो सर पर,
मुझको फिर किस बात का डर…….

श्याम की चौखट मिली,
मिल गई है हर ख़ुशी,
श्याम के हाथो में ही,
सौप दी है जिंदगी,
शर्मा का पूरा हुआ है सफर,
मुझको फिर किस बात का डर,
यूँ ही अपना हाथ सदा,
बाबा रखना मेरे सर पर,
तेरा हाथ हैं जो सर पर,
मुझको फिर किस बात का डर…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा

संग्रह