भाव स्यूं मंडाई बड़े चाव स्यूं मंडाई,
मंडवाई मनडे नै भाई जी आ मेहँदी…

मेहँदी मंडाई मैं तो बाबा थारे नाम की,
हिवड़े समाई सूरत बाबा थारे धाम की,
म्हारी थां स्यूं लगन लगाईं जी आ मेहँदी…..

हथरच्या राचे हाथ गहरा गहरा राचे,
यूँ लागे लेख कर्मा का बांचे,
करे किस्मत रेख सवाई जी आ मेहँदी…..

थारी किरपा को रंग मेहँदी में आवे,
लाल चटक दिखे घणो ही सुहावे,
थारे चेतन के मन भाई जी आ मेहँदी……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह