होली खेलन देखो आयो रे,
आयो बांके बिहारी,
बांके बिहारी मेरो सांवरो बिहारी,
फागण को महीनो आयो रे,
आयो छलियो बिहारी,
आयो बांके बिहारी…….

कुञ्जञ गलिन में शोर मचयो है,
बिच बजारा श्याम खड़ो है,
संग में लोग लुगाई रे,
आयो बांके बिहारी,
फागण को महीनो आयो रे,
आयो छलियो बिहारी,
होली खेलण देखो आयो रे,
आयो बांके बिहारी…….

राधे भी सुनकर दौड़ी दौड़ी आई,
सब सखियन को संग में लाई,
ब्रज में धमाल मचाई रे,
आयो बांके बिहारी,
फागण को महीनो आयो रे,
आयो छलियो बिहारी,
होली खेलण देखो आयो रे,
आयो बांके बिहारी…….

कान्हा ने रंग की भर पिचकारी,
राधा के गोरे तन पर मारी,
सारी चुनरिया भिगोई रे,
आयो बांके बिहारी,
फागण को महीनो आयो रे,
आयो छलियो बिहारी,
होली खेलण देखो आयो रे,
आयो बांके बिहारी…….

राधा ने ‘अमन’ जो रंग लगाया,
कान्हा ने उसको अंग लगाया,
राधे तो शरमाई रे,
आयो बांके बिहारी,
फागण को महीनो आयो रे,
आयो छलियो बिहारी,
होली खेलण देखो आयो रे,
आयो बांके बिहारी…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह