मन अंदर मोहन तन बाहर मोहन,
राधे राधे करता रहूँ जपता रहूँ मोहन,
गैया चराये मेरा मोहन माखन खाये मेरा मोहन,
रास रचाये वो है मोहन खेल खिलाये मेरा मोहन,
राग सुनाये मेरा मोहन बंसी बजाये मेरा मोहन,
सखिया नचाये वो है मोहन दुनिया झुलाये मेरा मोहन,
राधे राधे करते करते हरी को मनाना है,
राधे राधे जपते जपते हरी पास जाना है,
मुझे बस तेरा होना तुझमे मिल जाना है,
तेरा नाम लेते लेते सबको छोड़ जाना है,
राधा गाये मेरा मोहन मीरा गाये मेरा मोहन,
गोपिया गाये वो है मोहन सांसे गाये मेरा मोहन,
प्रेम पढाये मेरा मोहन भक्ति सिखाये मेरा मोहन,
बातें बताये मेरा मोहन सृष्टि चलाये मेरा मोहन……….

मुझे तेरा साथ मिला दुनिया से क्या चाहना है,
तेरे संग प्रीत लागी तू मेरा ठिकाना है,
कृष्णा मेरे कृष्णा,
सबसे प्यारा मेरा मोहन सबसे न्यारा मेरा मोहन,
सबका दुलारा वो है मोहन आँखों का तारा मेरा मोहन,
जबसे मन को मेरे मोहन ने मोह लिया,
तबसे मैंने दुनिया का हर मोह छोड़ दिया,
राधे राधे…
मन अंदर मोहन तन बाहर मोहन,
राधे राधे करता रहूँ जपता रहूँ मोहन…………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह