राधा कर दी रंग मे लाल बड़ी दूर से से आये कन्हैया,
बड़ी दूर से से आये कन्हैया बड़ी दूर से से आये कन्हैया……

अरे कहा से आयी राधा और कहाँ से आये कन्हैया,
अरे ये कहाँ से आया गुलाल बड़ी दूर से से आये कन्हैया,
राधा कर दी रंग मे लाल बड़ी दूर से से आये कन्हैया…..

बरसाने से आयी राधा गोकुल से आये कन्हैया,
राधा कर दी रंग मे लाल बड़ी दूर से से आये कन्हैया……

जब भर पिचकारी मारी गोपियन की सुरत बिगाड़ी,
अरे बरसाने उड़े गुलाल बड़ी दूर से से आये कन्हैया,
बड़ी दूर से से आये कन्हैया बड़ी दूर से से आये कन्हैया…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह