गले नागों के हार, माथे गंगा की धार
और नंदी पर असवार
मेरे भोले बाबा आये हैं

भोले पीते हैं विष का प्याला,
और देवों का दुख हर डाला
गले….

भोले माथे पे चंदा साजे,
और हाथों में डमरू बाजे
गले…

ऊँचे पर्वत पे डाले डेरा,
मैं हूँ भोले का. भोला है मेरा
गले….

बाबा ने कौशल ने गुण है गाया,
तूने चरणों से अपने लगाया
गले….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह