सोच रही मन में समझ रही मन में,
थारो म्हारो न्याय होवे लो सत्संग में….

ओढ़ चुनार मैं तो गयी सत्संग में,
ओढ़ चुनार मैं तो गयी सत्संग में,
साँवरियो भिगोई म्हाने हरे-हरे रंग में….

साधारी संगत गुरासा बिराजे,
साधारी संगत गुरासा बिराजे,
कर-कर दर्शन होइ रे मगन मैं…..

साधारी संगत साँवरियो बिराजे,
साधारी संगत साँवरियो बिराजे,
गाय गाय हरी गुण होइ रे मगन मैं…..

साधारी संगत सहेलिया बिराजे,
साधारी संगत सहेलिया बिराजे,
गाय गाय हरी गुण होइ रे मगन मैं…..

बाई तो मीरा के, गिरधर नागर,
बाई तो मीरा के, गिरधर नागर,
भवजल पार करे, पल छीन में….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह