म्हारा मन मे चाव घणो म्हे खाटु जावाला,
श्याम का फागण मेला माही नाचा गावाला…..

ई जीवन को सबसु बड़ो उत्सव है फागण मेलो,
बाबा श्याम सु मिलबा खातीर छोड़ा झुठो झमेलो,
बारह महिना बितया आव श्याम रिझावाला,
श्याम का फागण मेला माही नाचा गावाला…..

ऐसो मोको कदे ना चुका दिवानो संसार सारो,
फागण मेले म्हाने बुलायो बाबो लखदातार म्हारो,
पैदल जार निशान उठा जयकार लगावला,
श्याम का फागण मेला माही नाचा गावाला……

श्याम का दर पे आनंद बरसे मिलके होली खेलागां,
साँवरियो भी खुश हो बाट भर भर झोली लुटागां,
राकेश फागण मेले श्याम दर हरदम आवला,
श्याम का फागण मेला माही नाचा गावाला…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह