तूने इतना दिया रे गिरधारी ओ बाके बिहारी,
की मैं तो माला माल हो गई…….

तूने आँखे दी है जिसमें ज्योति दी है,
तेरे दर्शन करुँगी गिरधारी ओ बाके बिहारी,
की मैं तो माला माल हो गई…….

तूने कान दिए जिसमें परदा दिया,
तेरी कथा सुनुंगी गिरधारी ओ बाके बिहारी,
की मैं तो माला माल हो गई…….

तूने कंठ दिया जिसमें जिव्हा दी है,
तेरे भजन करुँगी जिव्हा गिरधारी ओ बाके बिहारी,
की मैं तो माला माल हो गई…….

तूने पेट दिया जिसमें भूख दी है,
तेरी ग्यारस करुगी गिरधारी ओ बाके बिहारी,
की मैं तो माला माल हो गई…….

तूने हाथ दिए उसमें बंधन दी है,
मैं तो दान करुँगी गिरधारी ओ बाके बिहारी,
की मैं तो माला माल हो गई…….

तूने पाओ दिए उसमे बंधन दिए,
मैं तो तीर्थ करुँगी गिरधारी ओ बाके बिहारी,
की मैं तो माला माल हो गई…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह