लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में है,
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है,
बेसहारों को सहारा, तेरे बरसाने में है ॥

झांकीया तेरे महल की कर रहे सब देवगण,
आगया बैकुंठ सारा, तेरे बरसाने में है॥

हर लता हर डाल पर तेरी दया की इक नज़र,
हर घडी यशोमती दुलारा, तेरे बरसाना में है॥

अब कहाँ जाऊं किशोरी तेरे दर को छोड़ कर,
मेरे जीवन का किनारा, तेरे बरसाने में है॥

यूँ तो सारे बृज में ही है तेरी लीला का प्रताप,
पर अनोखा ही नज़ारा, तेरे बरसाने में है ॥

मैं भला हूँ या बुरा हूँ पर तुम्हारा हूँ सदा,
अब तो जीवन का सहारा, तेरे बरसाने में है॥

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह