शेर पे सवार होके आजा शेरावालिये,
शेरावालिये.. माँ ज्योता वालिये,
शेर पे सवार होके आजा शेरावालिये ||

ज्योति माँ जगा के तेरी आस यह लगाई है,
जिन का ना कोई उनकी तुही सहाई है,
रौशनी अंधेरो में दिखा जा शेरावालिये,
शेर पे सवार होक आजा शेरावालिये
शेरावालिये माँ ज्योता वालिये..

राखिओ माँ लाज इन अखियो के तारों की,
डूबने ना पाए नैया हम बेसहारो की,
नैया को किनारे पे लगा जा शेरावालिये,
शेर पे सवार होके आजा शेरावालिये,
शेरावालिये माँ लाटां वालिये..

सच्चे दिल से धयाणु जी ने जब था बुलाया माँ,
कटा हुआ शीश तूने घोड़े का लगाया माँ,
भगतों की आन को बचा जा शेरावालिये,
शेर पे सवार होके आजा शेरावालिये,
शेरावालिये माँ ज्योता वालिये ||

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा

संग्रह