आये हैं राम मेरे राम राम,
आये हैं राम मेरे राम राम,
आये हैं राम मेरे राम राम,
आये हैं राम मेरे राम राम………

कितनी बरस रहे,
दूर वो घर से,
जिनके दर्श को,
नैना तरसे,
देश ये सारा,
कहने को उनका,
पर ना मिला,
एक भूमि का तिनका,
समय का पहिया,
घूम गया फिर,
पहुंचा अयोध्या,
उनका नाम………

आये राम मेरे राम मेरे राम,
आये राम मेरे राम मेरे राम,
आये राम मेरे राम मेरे राम,
आये राम मेरे राम मेरे राम………

दीप जलाओ,
मंगल गाओ,
नाम जपो सब,
सुबह शाम,
राह में प्रेम की,
फूल सजाओ,
मिलकर बोलो,
जय सियाराम,
खत्म हुई,
वनवास की अवधी,
अपने घर में आये राम………

आये राम मेरे राम मेरे राम,
आये राम मेरे राम मेरे राम,
आये राम मेरे राम मेरे राम,
आये राम मेरे राम मेरे राम………

गंदगी नदिया से धो पावन,
आई शीला है शालिग्राम,
उसमे बसे हैं दशरथ नंदन,
कौशल्या मां के श्री राम,
खत्म हुई,
वनवास की अवधी,
अपने घर में आये राम………

आये राम मेरे राम मेरे राम,
आये राम मेरे राम मेरे राम,
आये राम मेरे राम मेरे राम,
आये राम मेरे राम मेरे राम……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह