श्री राम है सुख के धाम अरे मन भज ले सीताराम,
राम नाम अनमोल धन है जान सके तो जान,
अरे मन भज ले सीताराम…..

छोड़ कपट छल जिसने गाया,
जीवन का सुख उसने पाया,
राम नाम तो मंत्र है सुख का भजले तज अभिमान,
अरे मन भज ले सीताराम……

सुख समझे बैठा है जिसमें,
दुख के कारण हैं वह जग में,
मेरा मेरा क्यों करता है अपना कुछ मत मान,
अरे मन भज ले सीताराम……

सोच समझ चिंतन कर मन में,
राम बसे हर क्षण हर कण में,
तेरा ईश्वर तेरे मन में अनुभव कर इंसान,
अरे मन भज ले सीताराम……

लाखों तर गए राम नाम से,
शबरी अहिल्या तरी नाम से,
राम नाम से ही लग जाएगी तेरी नैया पार,
अरे मन भज ले सीताराम……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

सीता नवमी

गुरूवार, 16 मई 2024

सीता नवमी
मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा

संग्रह